sun-in-eigth-house

सूर्य आठवे भाव में

Click here to read in english

यदि सूर्य आठवे भाव में स्थित हो शुभ फलो में कमी हो सकती है , जातक नेत्र रोगी होता है, पुत्र सुख में कमी रहती है, आयु भी कम हो सकती है ! इस सूर्य के प्रभाव से व्यक्ति अति क्रोधी और धर्य रहित होता है, धनवान हो सकता है परन्तु हमेशा चिंता ग्रस्त रहता है ! यदि सूर्य की स्थिति अशुभ मंगल के साथ हो तो उचाई से गिर कर चोट लगने का खतरा बना रहता है ! यह योग शल्य चिकित्सा भी करवा सकता है !

नोट :- उपरोक्त लिखे गए सूर्य के बारह भावो के फल वैदिक ज्योतिष और शास्त्रों के आधार पर लिखे गए है ! कुंडली के बारह लग्नो के आधार पर सूर्य के भाव फल में विभिन्नता हो सकती है !

लेखक

ज्योतिषी सुनील कुमार

अगला अध्याय – सूर्य नवम भाव में 

पिछला अध्याय – सूर्य सातवे भाव में 

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedInPrint this pageEmail this to someone