sun-in-fifth-house

सूर्य पाचवे भाव में

Click here to read in english

यदि कुंडली के पांचवे भाव में सूर्य स्थित हो तो जातक की संतान कम होती है, कन्या संतान की अधिकता हो सकती है , किसी और गृह के योग से पुत्र संतान हो सकती है ! यदि सूर्य का प्रभाव अत्यधिक क्रूर हो रोगी संतान अथवा संतान जीवित नहीं रहती ! यह सभी फल अन्य शुभ और अशुभ ग्रहों की स्थितियों पर निर्भर करते है ! यदि सूर्य स्त्री राशी में हो तो जातक कंजूस होता है, और संतान पक्ष से जीवन भर परेशान रहता है !

नोट :- उपरोक्त लिखे गए सूर्य के बारह भावो के फल वैदिक ज्योतिष और शास्त्रों के आधार पर लिखे गए है ! कुंडली के बारह लग्नो के आधार पर सूर्य के भाव फल में विभिन्नता हो सकती है !

लेखक

ज्योतिषी सुनील कुमार

अगला अध्याय – सूर्य छटे भाव में

पिछला अध्याय – सूर्य चौथे भाव में

Click here to subscribe our youtube channel