खून दान करने से मिलती है मंगल के दुष प्रभावों से मुक्ति

mangal

Click here to read in english

दोस्तों मंगल ज्योतिष के अनुसार एक अत्यधिक गर्म जोशी  वाला गृह मन जाता  है ! इस का सीधा सम्बन्ध मानव के खून, गर्मी और गुस्से अथवा गर्म स्वभाव से होता है, यही कारण है की यदि मंगल कुंडली में मांगलिक दोष का निर्माण करता है तो वैवाहिक जीवन में अधिक क्रोध भर जाने की वजहों से सम्बन्ध खराब हो जाते है ! कई बार इस क्रोध की वजह से वैवाहिक जीवन में घोर हिंसा और तलाक भी होते देखा गया है ! परन्तु मै यहाँ पर विशेष मंगल द्वारा मांगलिक दोष की बात नहीं करूँगा क्योकि कई और ऐसे तथ्य है जिनकी वजह से मंगल अपने दुष प्रभावों द्वारा, जातक के जीवन में अनेक प्रकार की समस्याए उत्पन्न करता है ! जैसे उधारण के टूर पर यदि किसी जातक की कुंडली में मंगल शनि से दृष्ट अथवा शनि की यक्ति में अनिष्ट भाव में हो तो यह योग किसी लोहे के हथियार अथवा वस्तु द्वारा गंभीर चोट लगने और अत्यधिक खून बह जाने का कारण बनता है !

इसी तरह की अनेक मंगल कृत समस्याओ से मुक्ति पाने के लिए ज्योतिष में अनेको प्रकार के उपाय होते है ! परन्तु यह जानना अति आवश्क है की मंगल कृत किसी विशेष समस्या का समाधान करने के लिए कौन सा उपाय उत्तम रहेगा ! आज मै इसी प्रकार के एक उपाय का जिक्र यहाँ करना चाहता हूँ की यदि किसी जातक की कुंडली में मंगल द्वारा चोट लगने का कोई अनिष्ट योग मौजूद है तो उन्हें यह उपाय अवश्य करना चाहिए ! यदि जातक साल में एक बार खून का दान करे तो उसके जीवन में चोट लगने से अथवा दुर्घटनावश खून बह जाने का खतरा टल जाता है ! परन्तु ज्योतिष के किसी भी उपाय को करने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिषी की सलहा लेना अति आवश्यक है ! किसी भी उपाय को बिना ज्योतिषीय सलाह के ना करे !

लेखक

ज्योतिषी सुनील कुमार

Vedic Astrologer & Vastu Expert