moon-in-third-house

चन्द्र तीसरे भाव में

Click here to read in english

यदि कुंडली के तीसरे भाव में चन्द्र हो तो जातक अत्यधिक मददगार होता है, वह जीवन भर अपने भाई बहनों की मदद करता है परन्तु जब उसे जरुरत होती है तो कोई उसकी मदद नहीं करता, तीसरे भाव में चन्द्र यदि शुभ स्थिति में न हो तो जातक बार बार व्यवसाय बदलता रहता है, यह चन्द्र विशेषकर जातक की बहनों के लिए अच्छा नहीं होता ! जातक की बहनों के ववाहिक जीवन में हमेशा परेशानिया रहती है ! जातक हमेशा सत्य का साथ देने वाला और अच्छे चरित्र का होता है !

नोट :- उपरोक्त लिखे गए सभी फल वैदिक ज्योतिष और शास्त्रों के आधार पर लिखे गए है ! सभी बारह लग्नो के आधार और अन्य ग्रहों की स्थति के आधार पर फल बदल सकते है !

लेखक ज्योतिषी सुनील कुमार

Next चन्द्र चौथे भाव में

Previuos चन्द्र दुसरे भाव में

 

 

Vedic Astrologer & Vastu Expert