Keeping these five things in mind while making a kitchen.

Click here to read in english.

१ – रसोई घर का निर्माण घर के आग्नेय कोण में होना चाहिए ! वास्तु शास्त्र के अनुसार आग्नेय कोण अथवा घर का दक्षिण – पूर्व कोण रसोई घर बनाने के लिए सबसे उत्तम स्थान होता है ! आग्नेय कोण का गृह स्वामी शुक्र देव होते है जो की ज्योतिष के अनुसार घर की स्त्री एवं धन,दौलत,सुख और समृद्धि के प्रतिक है ! और आग्नेय कोण एवं शुक्र का सीधा सम्बन्ध अग्नि तत्व से है , यदि किसी प्रकार से घर के दक्षिण – पूर्व कोण में दोष उत्त्पन हो जाए तो घर की स्त्री के स्वास्थ्य को तथा घर की धन,दौलत,सुख और समृद्धि को विशेष हानि होती है ! इसीलिए घर में रसोई घर का निर्माण आग्नेय कोण में ही करे क्योकि रसोई घर में अग्नि का प्रयोग होता है और घर की स्त्री को पूरा दिन रसोई घर में व्यतीत करना पड़ता है ! यदि रसोई घर अग्नि कोण अथवा आग्नेय कोण में होगा तो स्त्री की सेहत उत्तम और घर में धन,दौलत,सुख और समृद्धि बनी रहेगी !

२ – घर के आग्नेय कोण में अथवा रसोई घर में पानी संग्रह न करे ! दोस्तों वास्तु के अनुसार घर के आग्नेय कोण में जल संग्रह करना अथवा पानी का टैंक लगाना विशेष हानिकारक होता है ! क्योकि आग्नेय कोण अग्नि कोण होता है और आप तो जानते ही है यदि अग्नि के स्थान पर जल आ जाये तो अग्नि समाप्त हो जाती है ! आग्नेय कोण अथवा रसोई घर में जल का संग्रह करना अथवा अत्यधिक जल का इस्तेमाल करना रसोई घर में वास्तु दोष उत्त्पन्न करता है ! इस दोष के कारण घर की स्त्री की सेहत ख़राब रहती है तथा घर में धन,दौलत,सुख और समृद्धि की हानि होती है !

३ – रसोई घर अथवा आग्नेय कोण में काले, नीले तथा चमकीले रंगों का उपयोग न करे, काला, नीला अथवा चमकीला रंग जल तत्व को प्रदर्शित करता है इसलिए इन रंगो का इस्तेमाल घर के उत्तर – पूर्व कोण में करे ! इन रंगो का उपयोग रसोई घर अथवा दक्षिण – पूर्व में करने से धन हानि तथा स्त्री रोग उत्पन्न होता है !

४ – रसोई घर अथवा दक्षिण – पूर्व में दक्षिण की दीवार पर खिड़की न बनाये ! खिड़की हमेशा पूर्व की दीवार में बनाये ! दक्षिण दीवार पर खिड़की होने से रसोई घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ेगा जिसके प्रभाव से स्त्री का स्वभाव चिड़चिड़ा और गुस्सैल रहेगा वह रोग ग्रस्त रहेगी ! रसोई घर में नकारात्मक ऊर्जा बढ़ने से खाना स्वादिष्ट और सेहतमंद नहीं बनेगा तथा उस खाने से घर के अन्य सदस्यों की सेहत पर भी बुरा प्रभाव पड़ेगा !
रसोई घर में खिड़की पूर्व की दीवार में होने से रसोई में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ेगा ! जिसके फलस्वरूप स्त्री का स्वभाव खुशमिज़ाज़ और सेहत अच्छी रहेगी ! खाना भी स्वादिष्ट और सेहत मंद बनेगा जिसके फल स्वरूप घर के अन्य सदस्यों की सेहत भी अछि रहेगी !

५ – रसोई घर का आकार वर्गाकार अथवा आयताकार ही होना चाहिए और रसोईघर का दरवाज़ा रसोई घर के अंदर की तरफ खुलना चाहिए ! यदि रसोई घर का कोई कोना बढ़ा हुआ होगा तो उसका बुरा प्रभाव आएगा ! तो रसोई घर का निर्माण इस प्रकार करे की उसकी आकृति वर्गाकार अथवा आयताकार ही हो, अन्यथा किसी अन्य आकृति के कारन बढ़े हुए स्थान का बुरा प्रभाव आएगा और वास्तु दोष उत्त्पन्न होगा ! इसी प्रकार रसोई घर का दरवाज़ा रसोई के अंदर की तरफ ही खुलना चाहिए, क्योकि यदि दरवाज़ा घर के अंदर की तरफ खुलेगा तो रसोई की अग्नि के प्रभाव को पुरे घर में फैलाएगी जो वास्तु के अनुसार दोष होगा और इसके प्रभाव से कई प्रकार के बुरे प्रभाव आ सकते है जैसे घर में अत्यधिक लड़ाई झगड़ा होना इत्यादि !

तो दोस्तों जब भी आप घर में रसोई घर का निर्माण करे तो इस पांच बातो का अवश्य ध्यान रखे ! अधिक जानकारी के लिए आप किसी वास्तु सलाहकार के सलाह अवश्य ले क्योकि एक छोटी सी सलाह आपको जीवन में आने वाली कई परेशानियों अथवा धन हानि से बचा सकती है !

धन्यवाद
ज्योतिषी एवं वास्तु सलहाकार
सुनील कुमार

It's only fair to share...Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on LinkedIn
Linkedin
Print this page
Print
Email this to someone
email