sun-in-eleventh-house

सूर्य ग्यारहवे भाव में

Click here to read in english 

सूर्य यदि कुंडली के ग्याहरवे भाव में स्थित हो तो जातक को कुछ कष्ट अवश्य देता है हैं! इसमें संतान का कष्ट का भय हमेशा लगा रहता है ! ग्यारहवे भाव में सूर्य यदि बलि या उच्च स्थिति में हो तो जातक की संतान के लिए कष्टकारी होता है संतान में विलम्ब , गर्भपात अथवा संतान हो तो हमेशा बीमार रहती है ! यदि सूर्य निर्बल हो तो जातक को संतान और सम्पति दोनों का सुख प्राप्त होता है ! ग्यारहवे भाव में सूर्य जातक को शक्तिशाली, स्वाभिमानी और अच्छे चरित्र वाला बनाता है ! यह सूर्य जातक को न्याय क्षेत्र मे सफल बनाता है परन्तु बड़े भाई के सुख में कमी करता है !

नोट :- उपरोक्त लिखे गए सूर्य के बारह भावो के फल वैदिक ज्योतिष और शास्त्रों के आधार पर लिखे गए है ! कुंडली के बारह लग्नो के आधार पर सूर्य के भाव फल में विभिन्नता हो सकती है !

लेखक

ज्योतिषी सुनील कुमार

अगला अध्याय – सूर्य बारहवे भाव में 

पिछला अध्याय – सूर्य दसवे भाव में 

Vedic Astrologer & Vastu Expert